अकबर का सवाल

    अकबर का सवाल

दरबार मे एक दिन बीरबल उपस्थित नहीं था ,इसलिए कई दरबारी बीरबल की बुराई करने लगे |

उनमे से चार दरबारी जो बीरबल के खिलाफ कुछ अधिक ही जहर उगल रहे थे ,

उनसे बादशाह अकबर ने एक सवाल पूछा -“इस संसार मे सबसी बड़ी चीज क्या है ?”

उन चारो की बोलती बंद हो गई ,तब अकबर ने उन्हे सीधा करने के उद्देश्य से फिर कहा –

“तुम चारो तो बहुत समझदार हो ,जल्दी बताओ ,वरना चारो को फासी की सजा दे दूंगा |

“फासी की बात सुनकर उनके चेहरे पर हवाइया उड़ने लगी | उन्हे समझ  मे ही नहीं आ रहा था की क्या जवाब दे |

कोई खुदा को सबसे बड़ा बताता है तो तो एक ने बादशाह अकबर की सल्तनत को बड़ा बताया |

बादशाह अकबर ने जब उन्हे पुनः डांटा तो वे चुप हो गए और सोचने  लगे |

कुछ सोचकर उनमे एक ने बादशाह से जवाब के लिए कुछ दिन का समय मांगा |

बादशाह अकबर

बादशाह अकबर ने उन्हे तीन दिन का समय दे दिया और कहा कि तीन दिन बाद

भी उन्हे यदि उत्तर न मिला तो उनकी मौत निश्चित है |

अंतत उन चारो को उत्तर  के लिए  बीरबल कि शरण मे ही जाना पड़ा |बीरबल  ने उन चारो से

कहा -“मै तुम लोगों को   बादशाह के गुस्से से बचा सकता हूँ और उनके सवाल का जवाब भी  दूंगा किन्तु मेरी सर्त है |”

“हमे सारी सर्ते मंजूर है |” “ठीक है ,तुम चारो मे से दो लोग

मेरी चारपाई को कंधा दो और एक मेरा हुक्का पकड़े

और दूसरा मेरे जूते ,इस तरह बादशाह के दरबार तक ले जाया जाए |”बीरबल ने कहा |

उन चारो के सिर पर मौत मंडरा रही थी ,अतः उन्होने तुरंत यह सर्त मान ली |

बीरबल चारपाई पर बैठ गया ,दो जनो ने उसकी चारपाई

उठा ली ,एक ने हुक्का पकड़ा और दूसरा उसके जूते

लेकर चल दिया |इस  तरह वे सभी दरबार मे पहुँच गए |

बीरबल को इस तरह दरबार मे आता देखकर बादशाह अकबर ने पूछा

-“बीरबल , यह क्या माजरा है?””जहाँपनाह ,मुझे लगता है

आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया  होगा |

इस संसार मे सबसे बड़ी चीज जरूरत (गर्ज़)है जिसके लिए

इंसान कुछ भी करने को तैयार हो जाता है ,

उदाहरण आपके सामने मौजूद है ” बादशाह अकबर ने उन

चारो कि तरफ देखा जो मुह लटकाकर खड़े थे |

वे चारो भी समझ गए थे कि यही उनकी गुस्ताखी कि सजा है ,जो

उन्हे बादशाह अकबर ने अलग ही अंदाज मे दी है |

  अकबर का सवाल

Random Posts

  • भरोसा Trust

    भरोसा Trust सभी रिश्ते भरोसे पर आधारित होते हैं – जैसे  कि मालिक / नौकर , माँ- बाप / बच्चों […]

  • Sant Kabir Das Ji Ke Dohe

      Sant Kabir Das Ji Ke Dohe   कस्तूरी कुण्डल बसै , मृग ढूँढे बन महिं |       […]

  • यमराज का जन्मदिन

    भगवान यमराज के जन्म दिन पर  लगा हुआ था दरबार  मृत्युलोक से आयी हुई तीन आत्माएँ  कर रही थी भाग्य […]

  • Bhitar ka Khajana

    आपके भीतर बहुत बड़ा खजाना है | उसे हंसिल करने के लिए आपको बस अपने मन की आँखें खोलकर उसे […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*