खतरे

खतरे

                                                                         हंसने में मूर्ख समझे जाने का डर है |

                                                                          रोने में जज्बाती हो जाने का डर है |

                                                                        लोगों से मिलने में नाते जुड़ जाने का डर है |

                                                                                अपनी भावनाएं प्रकट करने में 

                                                                            मन की सच्ची बात खुल जाने का डर है | 

                                                                        अपने विचार , अपने सपने लोगों से कहने में 

                                                                                    उनके चुरा लिए जाने का डर है |

                                                                 किसी को प्रेम करने पर बदले में प्रेम न पाने का डर है |

                                                                                   जीने में मरने का डर है 

                                                                                 आशा में निराशा का डर है |

                                                                       कोशिश करने में असफलता का डर है 

                                                                लेकिन खतरे जरूर उठाए जाने चाहिए क्योकि 

                                                           जिंदगी में खतरे न उठाना ही सबसे बड़ा खतरा है |

                                                        जो शख्श खतरे नहीं उठता वह न तो कुछ करता है  

                                                              न कुछ पाता है , और न ही कुछ बनता है 

                                                  वे जिंदगी मे दुख – दर्द से तो बच सकते हैं लेकिन 

                                             वे सीखने , महसूस करने , बदलाव लाने , आगे बढ्ने या प्रेम करने 

                                                   और जीवन जीने को सीख नहीं पाते हैं |

                                                  अपने नजरिए की जंजीरों में बंधकरगुलाम बन जाते हैं |

                                                   और अपनी आजादी खो देते हैं |

                                                      सिर्फ खतरे उठाने वाला इंसान ही सही मायनों में आजाद है |

 

                                                                          खतरे

Random Posts

  • मनपसंद चीज

    बादशाह अकबर अपनी बेगम से किसी बात पर नाराज हो गए | नाराजगी इतनी बढ़ गयी कि उन्होने बेगम को […]

  • चार मूर्ख

    एक दिन मनोरन्जन के समय बादशाह के मन मे एक बात आई संसार में मूर्खों की संख्या तो अधिक है […]

  • बाधाओं को दूर करना

                बाधाओं को दूर करना  बाधाओं को दूर करके आगे बढ़ने वाले लोग उन लोगों […]

  • अकबर बीरबल के चुटकुले

    एक बार कुछ दरबारियों ने महाराजा अकबर से कहा महाराज ,आजकल बीरबल को ज्योतिष का शौक चढ़ा है |कहता फिरता […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*