चटपटे चुटकुले

चटपटे चुटकुले

एक जहाज डूब गया | सारे मुसाफिर जहाज के साथ डूब गए | केवल एक मुसाफिर , जो कि एक पादरी था , किसी प्रकार जिंदा बच गया और किनारे जा लगा | लेकिन जिस किनारे वो लगा , वहाँ आदिवासियों की बस्ती थी जिन्होने कि उसे घेर लिया | पादरी जिधर देखता था , उसे लंबा भाला उठाये आदिवासी योद्धा दिखाई देते थे |

हे भगवान – वह आतंकित भाव से बोला – मै तो गया काम से | अभी नहीं गया |”- तत्काल आसमान से बादलों के पीछे से आवाज सुनाई दी |

कौन ? कौन बोला ?

वही जिसे तूने अभी याद किया | तेरा भगवान बोला | अब जो मैं कहता हू उसे गौर से सुन | तेरे दाये पहलू में जो दुबला – सा योध्दा खड़ा है , तू उसका भाला छीन ले और उसे सामने खड़े प्रधान की छाती मे उतार दे |दशत से पादरी का दम निकलेने को हो रहा था लेकिन उसने फिर भी पुरी मुस्तैदी से आदेश का पालन किया |प्रधान के मर कर गिरने की देर थी कि फिर आसमान से गरजती बरसती आवाज आयी – बेटा , तू अब गया काम से | 

चटपटे चुटकुले

                                                       

                                                   *******

एक हथिनी का आपरेशन करने के बाद डाक्टर ने नर्स से पूछा – सब औज़ार ठीक – ठाक मिल गए है न ? कुछ रह तों नही गया ? नर्स ने कहा – सर औज़ार तो सब मिल गए है , पर डाक्टर बर्मा दिखाई नही दे रहे | 

                                                      ******* 

पप्पू : तुम्हारी गाय दूध देती है  अमन : नही |  निकालना   पड़ता है | 

                                                    *******   

एक डकैत किसी को पिस्तौल दिखाता हुआ बड़े विनयशील स्वर मे बोला – कृपया डकैती उन्मूलन अभियान के लिए चन्दा दीजिए | 

                                                         ********                

एक बिहारी नेता का पुत्र विदेश जा रहा था , हवाई अड्डे पर उसे कुछ दस्तावेजों पर दस्तखत करने को कहा गया |” लेकिन मुझे तो दस्तखत करना आता ही नही | ” तो आप अंगूठा ही लगा दीजिए |” उसे फिर बताया गया , जैसे ही वह अंगूठा लगा रहा था , पास खड़े एक व्यक्ति ने उससे पूछा ” जनाब विदेश जाने का आपका मकसद क्या है ? 

फरदर एजुकेशन , अंगूठा लगाने वाले नेता पुत्र ने ज़ोर से अंगूठा दबाते हुए कहा |

                                                        ********

एक महिला अपने चार साल के बच्चे के साथ बस मे सफर कर रही थी | बच्चे के हाथ मे लालीपाप था जिसे वो चूसता था और अगली सीट पर बैठे साहब के शानदार कोट के साथ मल देता था , चूसता था और कोट के साथ मल देता था |

बहन जी ! ” – वो सहब  झल्लाये – ” देखिए , आपका बच्चा क्या कर रहा है ? ” 

बहन जी ने तत्काल एक्शन लिया | 

मुन्ना ! ” – उन्होने बच्चे को डांटा – ” ऐसे नहीं करना | लालीपाप खराब हो जाता है | उसपर ऊन का रोया लग जाता है | 

 

Random Posts

  • Hindi Paheli Uttar Sahit

    Hindi Paheli Uttar Sahit रह – रह बजती पर , घड़ी नहीं पतली , दुबली पर छड़ी नहीं , दो मुख […]

  • सफलता

                                  सफलता       बड़ी सफलताएँ […]

  • यह रेडियो झूठिस्तान है

     ये रेडियो झूठिस्तान है |अब आप खेकूमल बटोरुदास से आजकल की ताजा खबर सुनिए | खबर है कि चीन भारत […]

  • बादशाह का प्रश्न

    एक दिन बादशाह ने बीरबल से चार चीजों का उत्तर बतलाने को कहा – 1  जो यहाँ हो ,वहाँ नहीं […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*