जिंदगी चुनाव और समझौतों से भरी पड़ी है

                           जिंदगी चुनाव और समझौतों से भरी पड़ी है

भाग्य केवल संयोग पर निर्भर नहीं होता , बल्कि हम उसे अपने लिए चुनते हैं |

वह इंतजार करने की नहीं , बल्कि हासिल करने की चीज है |

-विलियम जेनिंग्स ब्रायन

यहाँ दोनों बातें एक दूसरे का विरोध करती हैं |

अगर जिंदगी चुनाओं से भरी है , तो समझौते का सवाल कहाँ उठता है ?

यकीनन , समझौता भी एक चुनाव है | आइये इस पर विचार करें |

जिंदगी चुनाओं से कैसे भरी है – 

जब हम अधिक खाना खाते हैं , तो अपना वजन बढ़ाने का चुनाव खुद करते हैं |

जब हम अधिक शराब पीते हैं, तो दूसरे

दिन सिर में दर्द पा लेने का चुनाव हमारा अपना होता है |

अगर हम शराब पी कर गाड़ी चलाते हैं , तो दुर्घटना में खुद को ,

या किसी और को मार लेने का खतरा खुद चुनते हैं |

जब हम दूसरों के साथ बुरा व्यवहार करते हैं ,

तो इस बात का चुनाव खुद करते हैं कि दूसरे भी हमारे साथ बुरा व्यवहार करें |

जब हम दूसरों कि परवाह नहीं करते,

तो यह चुनाव हम खुद करते हैं कि दूसरे भी हमारी परवाह न करें |

चुनाव

हर चुनाव का एक नतीजा भी होता है |

हम चुनाव करने के लिए तो स्वतंत्र होते हैं ,

लेकिन उसके बाद वह चुनाव हमें नियंत्रित करने लगता है |

दूसरों से कुछ अलग बनने के लिए हम सबके पास बराबर का मौका होता है |

ज़िदगी कि तुलना गीली मिट्टी से की जा सकती है |

जिस तरह कुम्हार गीली मिट्टी को मनचाही शक्ल में ढाल सकता है , 

उसी तरह हम भी अपनी जिंदगी को मनचाहा रूप दे सकते हैं |

जिंदगी समझौतों से कैसे भरी है ? –

जिंदगी केवल मौजमस्ती का नाम नहीं है |

इसमें दुख और निराशा का भी सामना करना पड़ता है |

जिंदगी में ऐसी घटनाएँ भी घटती हैं , जिनके बारे में हमने सोचा तक नहीं होता है |

कई बार हर चीज उलट – पलट हो जाती है |

अच्छे लोगों के साथ भी बुरी घटनाएँ घट जाती हैं |

कुछ चीजें हमारे काबू से बाहर होती हैं ,

जैसे कि अपाहिज होना , या शरीर में कोई जन्मजात दोष होना |

हम अपने माँ – बाप , या पैदा होने के वक्त के हालात को तो नहीं चुन सकते |

अगर तकदीर ने हमारे साथ नाइंसाफी की है , तो मुझे अफसोस है |

लेकिन ऐसा हो ही गया है ,

तो अब हम क्या करेंगे – चीखेंगे – चिल्लाएँगे या तकदीर की चुनौती

को मंजूर करते हुये आगे बढ़ेंगे ? यह चुनाव हमको करना है |

किसी साफ दिन में  हमको झील में सैकड़ों नवें तैरती दिखाई देंगी |

हर नाव अलग दिशा में जा रही होती हैं |

हवा

हवा के एक ही दिशा में बहने के बावजूद नावें अलग – अलग दिशाओं में जा रही होती हैं |

क्यों ? इसलिए कि उनमें पाल (शामियाना ) को उसी ढंग से लगाया जाता है ,

और इसका फैसला नाविक करता है |

यही बात हमारी जिंदगी पर भी लागू होती है |

हम हवा के बहाव की दिशा तो नहीं चुन सकते ,

पर पाल लगाने का ढंग चुन सकते हैं |

सेहत खुशी और सफलता , हर आदमी के जूझने की क्षमता पर निर्भर होती है |

बड़ी बात यह नहीं है कि हमारी जिंदगी में क्या घटित होता है ,

बल्कि यह है कि जो घटित होता है , हम उसका सामना कैसे करते हैं

– जार्ज एलेन

नजरिया

अपने हालात को चुनना तो हमेशा हमारे बस में नहीं होता ,

लेकिन अपना नजरिया हम हमेशा चुन सकते हैं |

यह हमारा अपना चुनाव होता है कि विजेता की तरह व्यवहार करें ,

या पराजित की तरह |हमारी किस्मत हमारे मुकाम से नहीं , बल्कि मिजाज से तय होती है |

इंद्रधनुष के बनने के लिए बारिश , और धूप , दोनों की जरूरत होती है |

हमारी जिंदगी भी कुछ ऐसी ही है | उसमें सुख है , तो दुख भी है , अच्छाई है ,

तो बुराई भी है , और उजाला है , तो अंधेरा भी है |

जब हम

जब हम मुसीबत का सामना सही तरीके से करते हैं ,

तो और मजबूत बन जाते हैं |

हम अपनी जिंदगी की सभी घटनाओं पर तो नियंत्रण नहीं कर सकते ,

पर उनसे निपटने के तरीके पर

हमारा नियंत्रण होता है |

रिचर्ड ब्लेशनिडेन सेंट लुईस विश्व मेले में भारतीय चाय का प्रचार करना चाहते थे |

वहाँ काफी गर्मी थी | इसलिय उनकी चाय कोई नहीं पीना चाहता था |

उसी बीच उन्होने देखा कि ठंडे ड्रिंक्स की खूब बिक्री हो रही है |

उनके मन में ख्याल आया कि क्यों न अपनी चाय

में चीनी मिला कर उसे ठंडे ड्रिंक के रूप में बेचे |

उन्होने ऐसा ही किया , और लोगों ने उनकी ड्रिंक को खूब पसंद किया |

दुनिया में ठंडी चाय का चलन वहीं से शुरू हुआ |

आदमी कोई बांजफल नहीं है जिसके पास कोई विकल्प नहीं होता |

बांजफल खुद यह तय नहीं कर सकता

कि वह विशाल वृक्ष बन जाए या गिलहरियों का भोजन बने ,

लेकिन मनुष्य चुनाव कर सकता है |

अगर हमारे पास नींबू हो , तो हम उसे आँख में डाल कर चीख – चिल्ला सकते हैं ,

और उसकी शिकंजी बना कर पी भी सकते हैं |

अगर हालात बिगड़ जाएँ (कभी न कभी ऐसा होता ही है ) , तो यह हम पर निर्भर होता है

कि उनका सामना ज़िम्मेदारी से करें , या खीजते हुये करें |

जिंदगी चुनाव और समझौतों से भरी पड़ी है

Random Posts

  • यह रेडियो झूठिस्तान है

     ये रेडियो झूठिस्तान है |अब आप खेकूमल बटोरुदास से आजकल की ताजा खबर सुनिए | खबर है कि चीन भारत […]

  • शराब किसे कहते हैं

    शराब किसे कहते हैं शराब  के तीन अक्षर तीन विशेष बातों की शिक्षा देते हैं |   श = शैतान    […]

  • Shayari For Whatsapp Status || Whatsapp Hindi Shayari

    Shayari For Whatsapp Status || Whatsapp Hindi Shayari नमस्कार दोस्तों आज – कल  हर एक नवजवान लगा रहता है अपने […]

  • जीत किसकी

    बादशाह अकबर जंग मे जाने की तैयारी कर रहे थे |फ़ौज पूरी तरह तैयार थी |बादशाह अपने घोड़े पर सवार […]

12 thoughts on “जिंदगी चुनाव और समझौतों से भरी पड़ी है

  1. It’s the best time to make a few plans for the future and it is time to be happy.

    I’ve learn this put up and if I may just I desire to recommend
    you few attention-grabbing things or suggestions. Maybe you could write subsequent articles regarding this article.
    I desire to read even more things about it! There’s certainly a lot to
    know about this topic. I like all the points you made.
    I seriously love your blog.. Excellent colors & theme.
    Did you build this site yourself? Please reply back as
    I’m trying to create my own blog and would like to learn where you got this
    from or what the theme is called. Thank you!

    http://foxnews.co.uk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*