जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे

जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे

                           अगर आप सोचते हैं कि आप हार गए हैं 

                                              तो आप हारे है 

                      अगर आप सोचते हैं कि आप में हौसला नहीं है 

                                 तो सचमुच नहीं है 

                             अगर आप जितना चाहते हैं 

                       मगर सोचते हैं कि जीत नहीं सकते 

                         तो निश्चित है कि आप नहीं जीतेंगे 

                          अगर आप सोचते हैं कि हार जाएंगे

                                  तो आप हार चुके हैं  

                    क्योंकि हम दुनिया मे देखते हैं कि 

            सफलता की शुरुआत इंसान की इच्छा से होती है 

                 ये सब कुछ हमारी सोच पर निर्भर करता है 

                       अगर आप सोचते हैं कि पिछड़ गए हैं 

                            तो आप पिछड़ गए हैं 

         तरक्की करने के लिए आपको अपनी सोच ऊंची करनी होगी 

                    कोई भी सफलता प्राप्त करने से पहले 

                   आपको अपने प्रति विश्वास लाना होगा |

                           जीवन की लड़ाइयाँ हमेशा 

            सिर्फ तेज और मजबूत लोग ही नहीं जीतते बल्कि 

                   आज नहीं तो कल जीतता वही आदमी है 

                      जिसे यकीन है कि वह जीतेगा |

                                                                                   
    जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे 

Random Posts

  • अकबर बीरबल का मिलन

    अकबर बीरबल का मिलन एक बार  अकबर बादशाह युद्ध के बाद दिल्ली की तरफ वापस आ रहे थे | रास्ते […]

  • चुनाव होने वाला है क्या ?

    चुनाव होने वाला है क्या ? गाँव में नई सड़क बनते देखकर , और गली गली के नुक्कड़ वाली  पंचायत […]

  • मनपसंद चीज

    बादशाह अकबर अपनी बेगम से किसी बात पर नाराज हो गए | नाराजगी इतनी बढ़ गयी कि उन्होने बेगम को […]

  • अच्छी आदतें Good Habits

    हम आदतें कैसे बनाते हैं ? how do we form habits किसी काम को बार – बार करने से , […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*