जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे

जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे

                           अगर आप सोचते हैं कि आप हार गए हैं 

                                              तो आप हारे है 

                      अगर आप सोचते हैं कि आप में हौसला नहीं है 

                                 तो सचमुच नहीं है 

                             अगर आप जितना चाहते हैं 

                       मगर सोचते हैं कि जीत नहीं सकते 

                         तो निश्चित है कि आप नहीं जीतेंगे 

                          अगर आप सोचते हैं कि हार जाएंगे

                                  तो आप हार चुके हैं  

                    क्योंकि हम दुनिया मे देखते हैं कि 

            सफलता की शुरुआत इंसान की इच्छा से होती है 

                 ये सब कुछ हमारी सोच पर निर्भर करता है 

                       अगर आप सोचते हैं कि पिछड़ गए हैं 

                            तो आप पिछड़ गए हैं 

         तरक्की करने के लिए आपको अपनी सोच ऊंची करनी होगी 

                    कोई भी सफलता प्राप्त करने से पहले 

                   आपको अपने प्रति विश्वास लाना होगा |

                           जीवन की लड़ाइयाँ हमेशा 

            सिर्फ तेज और मजबूत लोग ही नहीं जीतते बल्कि 

                   आज नहीं तो कल जीतता वही आदमी है 

                      जिसे यकीन है कि वह जीतेगा |

                                                                                   
    जैसा सोंचोगे वैसा बनोगे 

Random Posts

  • Hindi Paheli Uttar Sahit

    Hindi Paheli Uttar Sahit रह – रह बजती पर , घड़ी नहीं पतली , दुबली पर छड़ी नहीं , दो मुख […]

  • मित्रता कैसे टूटे ?

    मित्रता कैसे टूटे  बादशाह अकबर के पुत्र शहजादा सलीम तथा दिल्ली के एक व्यापारी के पुत्र की आपस मे गहरी […]

  • Nightfall , Swapndosh ka Gharelu aur Ayurvedic Ilaj

    Nightfall , Swapndosh Kise Kahate Hain- दोस्तों नमस्कार इस पोस्ट मे हम एक ऐसी समस्या का समाधान जानेंगे जो  किशोरावस्था […]

  • बीरबल की योग्यता

    दरबार मे बीरबल से जलने वालों की कमी न थी बादशाह अकबर का साला तो कई बार बीरबल से मात […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*