पनवाड़ी पति का लव लेटर

पनवाड़ी पति का लव लेटर

हमारी पियारी राम दुलारी ,

सदा मूस्कियात रहो ,

जब से तुम रिसियाय के अपने मंगरू भैया के इहाँ गई हो ,

तब  से  हमरी  जिन्दगी आइसो होई गई है जइसे बिना सुपारी का पान 

हमार मन सुरति खाने भी नहीं करत है /

कसम कलकत्ता पान की तुमरे संग हमार मन अइसे घुल मिल गवा है ,

जइसे चुन्ना क्त्थे के साथ मिल जाता है हम मानत हैं कि गलती हमार है कि 

हम तुमको सनीमा देखाने नहीं लई गए पर हम का करे दिन भर पान की 

दुकान पर बाइठ के चुन्ना लगाए लगाए के हमरी मति भी सुन्न होई गई है ,

अब हम तुमसे हाथ गोड़ जोड़ के चिरौरी करत है कि तुम गुस्सा पीक दो 

पनवाड़ी पति का लव लेटर

 

 

 

 

 

 

 

 

Random Posts

  • मनपसंद चीज

    बादशाह अकबर अपनी बेगम से किसी बात पर नाराज हो गए | नाराजगी इतनी बढ़ गयी कि उन्होने बेगम को […]

  • बुझो तो जाने

    बेसक न हो हाथ मे हाथ पर जीता है वह आप के साथ (परछाई) साँपो से भरी एक पिटारी , […]

  • Sant Kabir Das Ji Ke Dohe

      Sant Kabir Das Ji Ke Dohe   कस्तूरी कुण्डल बसै , मृग ढूँढे बन महिं |       […]

  • क्या पृथ्वी को माता कहना उचित है

    गर्भ धारण करने के पश्चात माता अपने बच्चे का भार सहन करती है |नौ माह बाद बच्चे का जन्म होता […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*