पनवाड़ी पति का लव लेटर

पनवाड़ी पति का लव लेटर

हमारी पियारी राम दुलारी ,

सदा मूस्कियात रहो ,

जब से तुम रिसियाय के अपने मंगरू भैया के इहाँ गई हो ,

तब  से  हमरी  जिन्दगी आइसो होई गई है जइसे बिना सुपारी का पान 

हमार मन सुरति खाने भी नहीं करत है /

कसम कलकत्ता पान की तुमरे संग हमार मन अइसे घुल मिल गवा है ,

जइसे चुन्ना क्त्थे के साथ मिल जाता है हम मानत हैं कि गलती हमार है कि 

हम तुमको सनीमा देखाने नहीं लई गए पर हम का करे दिन भर पान की 

दुकान पर बाइठ के चुन्ना लगाए लगाए के हमरी मति भी सुन्न होई गई है ,

अब हम तुमसे हाथ गोड़ जोड़ के चिरौरी करत है कि तुम गुस्सा पीक दो 

पनवाड़ी पति का लव लेटर

 

 

 

 

 

 

 

 

Random Posts

  • अकबर का सवाल

        अकबर का सवाल दरबार मे एक दिन बीरबल उपस्थित नहीं था ,इसलिए कई दरबारी बीरबल की बुराई करने […]

  • Nightfall , Swapndosh ka Gharelu aur Ayurvedic Ilaj

    Nightfall , Swapndosh Kise Kahate Hain- दोस्तों नमस्कार इस पोस्ट मे हम एक ऐसी समस्या का समाधान जानेंगे जो  किशोरावस्था […]

  • बड़ा कौन

    अकबर ने दरबार मे प्रश्न किया -“सबसे बड़ा कौन है ? दरबार मे जीतने भी दरबारी बैठे थे सभी के […]

  • यह रेडियो झूठिस्तान है

     ये रेडियो झूठिस्तान है |अब आप खेकूमल बटोरुदास से आजकल की ताजा खबर सुनिए | खबर है कि चीन भारत […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*