बनिया पति का लव लेटर

म्हारी घरवाली फूलनवाती को

म्हार एक किलो प्यार ,

आगे समाचार यो है की जब से तू अपने 

भतीजे मंहगाइलाल की सादी मे गई है , तब से थारी याद मे म्हारा 50 किलो लीटर खून घट गयो 

थारे प्रेम मे म्हारा तो घाटा ही घाटा हो रियो है नफ़ों तो कोई नई , थारे से सादी  करके म्हारा तो

दीवाला ही निकल गया , सादी के बाद थारा वजन बढ़ गया , पण म्हारी तिजोरी हल्की हो गई , 

मैंने तुझे कितने बार समझाया असली घी मत खाया कर , पर तूने पूरा कनस्तर खाली कर दिया 

अरे इतनी फिजूल खर्ची  तो सरकरभि नही करती , थारे मिलावटी प्यार की कसम , जब से तू 

है , म्हारे को आटे – दाल का भाव मालूम पड़ गया . होटल मे खाना कितना महंगा हो गया है 

की दाम पूछ कर ही म्हारी तो भूख मर जावे , अगर थारे प्रेम के बहीखाते मे म्हारे नाम रहम 

की पूंजी लिखी हो तो अब और खर्चा मत किरियों .  भतीजे की सादी मे लेन – देन करते समय 

होशियारी से कां लिजों . लेन तो करियों , पर देन मत करियों , और हा , पिछले टाइम थारे बाप 

ने म्हारे से 25 रु उधार लिये थे , सो सूद समेत वसूली कर लिजों . आगे क्या लिखू थारे बिना 

म्हारे मन का गोदाम खाली पड़ा है म्हारे प्यारी शक्कर की बोरी , थारे इन्तजार मे मक्खियों गीणता थारा पति ………

 

Random Posts

5 thoughts on “बनिया पति का लव लेटर

  1. For a long time, the gambling operators made lucrative amounts by
    examining their sites to all or any players.
    The last thing that we will mention is a thing that’s based off of
    one’s own preference. Use them for your own home games,
    if you ever stop playing, or require money, cash it in on the casino you still have
    them from for full value. https://pppav12121.net/baccaratgame/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*