बादशाह का प्रश्न

बादशाह का प्रश्न

एक दिन बादशाह ने बीरबल से चार चीजों का उत्तर बतलाने को कहा –

1  जो यहाँ हो ,वहाँ नहीं |

2   जो वहाँ तो हो ,यहाँ नहीं |

3 . जो यहाँ भी ,वहाँ भी नहीं |

4 . जो वहाँ और यहाँ दोनों जगह हो |

बीरबल ने दो दिन की मोहलत माँगते हुए कहा -जहाँपनाह मै दो दिन में आपके सामने चारों को हाजिर कर दूंगा |दो दिनो के बाद बीरबल ने एक वेश्या ,एक साधू एक भिखारी और एक दानवीर सेठ को बादशाह के सामने लाकर खड़ा कर दिया |बादशाह ने भरे दरबार में रहस्य पूछा तो बीरबल ने बताया यह वेश्या है जो यहाँ तो सुखी और सम्पन्न है सारे सुख इसके कदम में बिछे है ,परन्तु वह पाप करती है ,अत : यहाँ यहाँ तो यह खुश है ,इसकी जगह वहाँ स्वर्ग में नहीं होगी |दूसरे यह है साधु जो यहाँ कष्ट भोग रहे है ,परन्तु पाप पुण्य और तप करते है यह यहाँ सुखी      नहीं है ,इनकी जगह वहाँ जरूर होगी |तीसरा ये   भिखारी है|ये यहाँ भी सुखी नहीं है और अच्छे कर्म न करने के कारण यह वहाँ भी सुखी नही होगा |चौथे ये दानवीर सेठ है ,ये यहाँ दान पुण्य करते है इसलिए यहाँ भी सुखी  है इनका जगह वहाँ भी है और यहाँ भी दोनों जगह पर ये है बादशाह की फरमाईश पूरी हुई |

उनकी समझ मे आ गया |

उन्होने वेश्या को वहाँ तक आने की फीस ,साधु को सम्मान भीखरी को दान ,सेठ को सम्मान और उपाधि दी 

 

Random Posts

  • हिम्मत न हारो

    हिम्मत न हारो जब कोई काम बिगड़ जाए , जैसा कि कभी – कभी होगा जब रास्ता सिर्फ चढ़ाई का […]

  • Badshahi Mahabharat

    Badshahi Mahabharat बादशाह अकबर के मन में विचार आया कि आने वाली पीढ़ी को अपने बारे में जानकारी देने के […]

  • आत्मसम्मान ,Self-Esteem

                आत्मसम्मान ,Self-Esteem सकारात्मक नजरिया विकसित करना –  कोई आदमी अपने बारे में जो सोचता […]

  • चार मूर्ख

    एक दिन मनोरन्जन के समय बादशाह के मन मे एक बात आई संसार में मूर्खों की संख्या तो अधिक है […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*