भरोसा Trust

हिम्मत न हरो भरोसा Trust

सभी रिश्ते भरोसे पर आधारित होते हैं – जैसे  कि मालिक / नौकर , माँ- बाप / बच्चों , पति / पत्नी , गुरू / विद्दार्थी ,

खरीदने वाले / बेचने वाले , और ग्राहक / सेल्समैन का रिश्ता |

बिना निष्ठा और ईमानदारी के भरोसा कैसे हो सकता है ? भरोसे के संकट में पड़ने का मतलब है

– सच्चाई का संकट में पड़ना | भरोस भरोसेमंद पर ही किया जाता है |

  • भरोसा इन बातों से पैदा होता है –

विश्वसनीयता (reliability) वचनबद्धता से जन्म लेती है | विश्वसनीय आदमी के बारे में पहले से अंदाज

लगाया जा सकता है |

  • स्थिरता (consistency) – विश्वास बढ़ाती है |
  • सम्मान (respect) – खुद और दूसरों का सम्मान करने से इंसान का गौरव

बढ़ता है , और उसमें दूसरों की परवाह करने का नजरिया पैदा होता है |

  • निष्पक्षता (fairness)- न्याय और निष्ठा के भाव को जगाती है |
  • खुलापन (openness) – दूसरों की बात ध्यान से सुनने और उनके विचारों

के साथ साझेदारी की इच्छा दर्शाता है |

  • समता (congruence) – कथनी और करनी में समानता होनी चाहिए |

अगर कोई कहता कुछ है , और करता कुछ है , तो आप उसका कैसे यकीन करेंगे ?

  • क्षमता (competence ) – काबिलियत और सेवा की भावना से जन्म लेती है |
  • ईमानदारी (integrity )- विश्वसनीयता का महत्वपूर्ण अंग है |
  • स्वीकृति (acceptance) – सुधार के प्रयास के बावजूद हमें एक दूसरे की कमियों

और खूबियों को एक हद तक कबूल करने की जरूरत होती है |

  • चरित्र (character ) – किसी इंसान में कितनी ही योग्यता क्यों न हो ,

लेकिन वह चरित्रहीन है , तो उस पर विश्वास नहीं किया जा सकता |

  • साहस ( courage ) – जिस इंसान में साहस की कमी होती है , वह

तकलीफ में आपका साथ जरूर छोड़ देगा |

प्यार से भी बड़ा भरोसा

भरोसे का महत्व प्यार से भी ज्यादा है | हम कुछ लोगों को प्यार तो कर सकते हैं ,

लेकिन उन पर भरोसा नहीं कर सकते | रिश्ते बैंक एकाउंट की तरह हैं ,

हम उनमें जितना जमा करते हैं , वे उतने ही बढ़ते हैं इसलिए हम उतना ही निकाल

भी सकते हैं , लेकिन अगर आप बिना जमा किए निकालने की कोशिश करेंगे तो

निराशा ही हाथ लगेगी |

कई बार हम महसूस करते हैं कि हमने ज्यादा निकाल लिया है , मगर सच्चाई

यह होती है कि हमने बहुत ही कम जमा किया होता है |

खराब रिश्तों और भरोसे की कमी के कुछ नतीजे बताए गए हैं :

  • तनाव ( Stress )
  • खराब सेहत ( poor health )
  • आपसी संवाद की कमी (Lack of communication)
  • अविश्वास ( Distrust )
  • चिड़चिड़ापन (Irrtation )
  • क्रोध  ( Anger )
  • बंद दिमाग या संकुचित सोच ( Close- mindedness )
  • पूर्वाग्रह (Prejudice )
  • टिम भावना का अभाव ( No team spirit )
  • आत्मबल का टूटना ( Breakdown of morale )
  • अविश्वसनीयता ( Lack of credibility)
  • असहयोग का व्यवहार ( Uncooperative behaviour )
  •  आत्मसम्मान की कमी ( Poor self – esteem )
  • टकराव ( Conflict )
  • संदेह (Suspicion)
  • मायूसी ( Frustration )
  • उत्पादकता में कमी ( Loss Of productivity )
  • उदासीनता ( Unhappiness )
  • अकेलापन ( Isolation )

        भरोसा Trust              भरोसा Trust

Random Posts

  • बीरबल की योग्यता

    दरबार मे बीरबल से जलने वालों की कमी न थी बादशाह अकबर का साला तो कई बार बीरबल से मात […]

  • स्वप्न

    एक दिन किसी ब्राह्मण ने रात मे स्वप्न देखा कि उसको सौ रूपये उधार अपने मित्र से मिले है सवेरे […]

  • बालों के गिरने ,व झड़ने की समस्या

    बालों के गिरने ,व झड़ने की समस्या Kanghi ya brash se sanvarate samay yadi do – char baal toot ya […]

  • बनिया पति का लव लेटर

    म्हारी घरवाली फूलनवाती को म्हार एक किलो प्यार , आगे समाचार यो है की जब से तू अपने  भतीजे मंहगाइलाल […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*