सकारात्मक सोच Positive thinking

सकारात्मक सोच Positive thinking

सकारात्मक सोच और सकारात्मक विशवास

सकारात्मक सोच और सकारात्मक विशवास, में क्या फर्क है ? जब अपने विचारों की आवाज सुनते है,

तो वे हमें कैसे लगते हैं वे सकारात्मक हैं या  नकारात्मक ?

हम अपने दिमाग को सफलता के लिए प्रोग्राम कर रहे हैं या असफलता के लिए ?

हमारे सोचने के तरीके का हमारे काम  करने की क्षमता पर गहरा असर पड़ता है |

अपने लिए  सकारात्मक नजरिया अपनाने और प्रेरित होने का चुनाव हमें रोज करना होता है |

सकारात्मक जीवन जीना आसान नहीं है ,पर नकारात्मक जीवन जीना भी तो आसान नहीं है |

मै तो अपने लिए सकारात्मक जीवन ही चुनूँगा |

सकारात्मक सोंच हमें हमारी क्षमताओं का भरपूर इस्तेमाल करने में मदद देती है |

सकारात्मक विश्वास सकारात्मक सोंच से भी बड़ी चीज है |

इसका मतलब  यह जानना है कि सकारात्मक सोंच नतीजा देगी |

सकारात्मक विश्वास का मतलब आत्मविश्वास से भरा नजरिया है जो तैयारी से उपजता है |

कोशिश के बिना सकारात्मक नजरिया खयाल पुलाव पकाने जैसा है |

सकारात्मक विशवास का एक उदाहरण आगे दिया गया है |

कहानी 

कई साल पहले लॉकहीड  ने एल – 1011 ट्राइस्टार हवाई जहाज बनाया |

उस जेट विमान की शक्ति और सुरक्षा प्रणालियों की जांच करने के लिए लॉकहीड कंपनी ने 18 महीने, तक,

कठोर से कठोर परीक्षण किए जिसमें उनके 1.5 बिलियन डालर लगे

|हाइड्रोलिक जैक इलेक्ट्रानिक सेंसर और एक कम्पुटर की मदद से ,उस जहाज ने एक भी गड़बड़ी के बिना 36,000 उड़ाने भरी |

किसी जहाज को इतनी उड़ाने भरने में 100 साल लग जाएंगे |

हजारों परीक्षणों के बाद उस जहाज को आखिरकार उड़ान भरने की इजाजत दी गयी |

        क्या लॉकहीड कंपनी इस विमान पर पूरा भरोसा कर सकती है ?

यकीकन  इसको तैयार करने के लिए कड़ी मेहनत की गयी है,

इसलिए पूरे यकीन से कहा जा सकता है कि यह उड़ान भरने के लिए पूरी तरह सुरक्षित है |

– शिव खेड़ा

सकारात्मक सोच Positive thinking

Random Posts

  • बाधाओं को दूर करना

                बाधाओं को दूर करना  बाधाओं को दूर करके आगे बढ़ने वाले लोग उन लोगों […]

  • पैसे की थैली किसकी

    दरबार लगा हुआ था बादशाह अकबर राज -काज देख रहे थे तभी दरबारी  ने सूचना दी कि दो व्यकित अपने […]

  • बड़ा कौन

    अकबर ने दरबार मे प्रश्न किया -“सबसे बड़ा कौन है ? दरबार मे जीतने भी दरबारी बैठे थे सभी के […]

  • मित्रता कैसे टूटे ?

    मित्रता कैसे टूटे  बादशाह अकबर के पुत्र शहजादा सलीम तथा दिल्ली के एक व्यापारी के पुत्र की आपस मे गहरी […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*