साले की जिद्द

साले की जिद्द

बादशाह अकबर के साले साहब ने एक बार फिर से स्वयम को दीवान बनाने की

जिद्द की | अब बादशाह सीधे – सीधे तो साले साहब को इंकार कर नहीं सकते थे

सो उन्होने फिर एक शर्त रखा और कहा ठीक है , मैं तुम्हें दीवान बना दूंगा |

पहले तुम्हें एक काम करना होगा , यहलो तीन रुपये और इससे तीन चीजें

खरीदना | हर चीज एक रुपये की हो और पहली चीज वहाँ की हो ,दूसरी

यहाँ की और तीसरी न यहाँ की हो और न वहाँ की | साले साहब तीन रूपए

लेकर बाजार चले गए |उसने बहुत कोशिश की पर उसे यह तीनों चीजें कहीं

न मिलीं |थक – हार कर वह दरबार में लौट आया और कहा – हुजूर , आप हर

बार मुझे जान – बूझकर मुश्किल काम सौंपते हैं , ताकि मैं दीवान बन नहीं

सकूँ साले साहब ! काम कोई मुश्किल नहीं होता , बस काम को करने की

लगन होनी चाहिए | यही काम मैं अब बीरबल को सौंपता हूँ , देखना वह जरूर कही

जो अपने साले साहब से कही थी |बीरबल बाजार गया और कुछ देर बाद लौटा

तो बादशाह ने पूछा – कहो बीरबल कुछ मिला ? जी हुजूर , पहले मैंने एक

रुपया फकीर को दान दिया और पुण्य खरीद लिया , इससे वहाँ की चीज मिल गई

दूसरे रुपए को मैंने खाने – पीने मे खर्च किया जो यहाँ की चीज थी और तीसरा

रुपया मैंने जुआ खेलने में गंवा दिया जो न यहाँ काम आया और न वहाँ | बीरबल

ने जवाब दिया | देखा साले साहब , इसे कहते हैं अक्लमंदी | तभी तो बीरबल ही

मुझे दीवान के रूप मे पसंद हैं साले साहब शर्मिंदगी महसूस कर रहे थे |

साले की जिद्द

Random Posts

  • मुंह पीछे बुराई

    मुंह पीछे बुराई    बीरबल  से  जलने वाले बहुत थे |एक बार किसी ईषयालु ने चौराहे पर एक कागज  चिपका […]

  • Badshahi Mahabharat

    Badshahi Mahabharat बादशाह अकबर के मन में विचार आया कि आने वाली पीढ़ी को अपने बारे में जानकारी देने के […]

  • भरोसा Trust

    भरोसा Trust सभी रिश्ते भरोसे पर आधारित होते हैं – जैसे  कि मालिक / नौकर , माँ- बाप / बच्चों […]

  • स्वप्नदोष का इलाज

    स्वप्नदोष का इलाज सोते समय वीर्य के निकल जाने को स्वप्नदोष कहते | वैसे तो यह शिकायत हर नौजवान को […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*