स्वप्नदोष का इलाज

स्वप्नदोष का इलाज

सोते समय वीर्य के निकल जाने को स्वप्नदोष कहते | वैसे तो यह शिकायत

हर नौजवान को हो जाता है | मगर महीने में 1 या 2 बार हो जाए तो घबराना नहीं चाहिए |

बल्कि गर्म वस्तु , तेज मसाले , अंडे आदि खाने बन्द कर दें तो यह शिकायत अपने

आप दूर हो जाती है |

1. तुख्मकाहू  , धनिया , अजवायन खुरासानी , तुख्मखीरा , नीलोफर , इसबगोल भूसी ,

कूंजा मिश्री बराबर वजन लेकर बारीक करके 6-6 ग्राम सुबह शाम ताजे पानी से 30 दिन 

खायें | रोजाना होने वाला स्वप्नदोष रूक जाता है | परहेज गुड़ , चावल , खटाई , अंडा ,शराब

और दूध दवा खाने तक न पीयेँ |

2. तुलसी के बीज 4 – 4 ग्राम पानी में कुछ समय तक शाम को खायें |

3. बीज बन्द  3 ग्राम पानी से खाने से स्वपनदोष रूक जाता है |

4. सालब मिश्री , मूसली सफ़ेद , संदल सफ़ेद , इलायची छोटी , जीरा सफ़ेद, 

सतावर , भूसी इसबगोल सब 10- 10 ग्राम लेकर बारीक कूटकर छान लें 

और 6 – 6 ग्राम सुबह – शाम को दूध के साथ सेवन करें |

स्वप्नदोष 

5.  इमली के बीज 125 ग्राम 400 ग्राम दूध में भिगोकर रखें 

दो दिन बाद छिलका उतार करके साफ करके पीस लें |

6-6 ग्राम सुबह – शाम पानी के साथ इस्तमाल करें | यह धात रोग के लिए है |

6. कीकर की कच्ची फलियाँ छाया में सुखाकर बारीक करके और बराबर की 

मिश्री मिलाकर सुबह – शाम 6 -6 ग्राम दूध के साथ खाएँ , धातु व कमजोरी की 

बढ़िया दवा है | कतरा लेस जाना बन्द होगा |

7.  मुलहठी का चूर्ण 3 ग्राम शहद से चाटने पर स्वप्न दोष ठीक हो जाता है |

8.  बनारसी आंवले का मुरब्बा एक नग प्रतिदिन पानी से धोकर चबा – चबा कर 

खाएँ | यह नेत्र रोग और हृदय रोग को भी ठीक करता है | स्वप्नदोष का अच्छा 

इलाज है 

नोट – यह मानसिक बीमारी है , अतः मन को पवित्र करें | शीतल जल से स्नान करें |

रात्रि को गर्म दूध न पीयेँ तथा रात को सोने से पहले अपने पाँव ठंडे जल से अच्छी 

तरह धोलें | इससे अच्छी नींद आती है तथा स्वप्नदोष भी नहीं होता |

विशेष बात – स्वप्नदोष की बीमारी जड़ से तो शादी के बाद खत्म होती है |महीने में 

दो – तीन बार की तो चिन्ता मत कीजिए | इससे ज्यादा होने लगे तो इलाज 

आवश्यक रूप से करवाना चाहिए |

स्वप्नदोष का इलाज

Random Posts

  • Bhitar ka Khajana

    आपके भीतर बहुत बड़ा खजाना है | उसे हंसिल करने के लिए आपको बस अपने मन की आँखें खोलकर उसे […]

  • पुलिस का लव लेटर

    डी .एस पी ।(डब्बू श्यामू और पप्पू )की माँ , सदा खबरदार रहो , तुम्हें घर से मैके ,फरार हुए […]

  • बुझो तो जाने

    बेसक न हो हाथ मे हाथ पर जीता है वह आप के साथ (परछाई) साँपो से भरी एक पिटारी , […]

  • जीतने वाला बनाम हारने वाला, जीत आपकी

    जीतने वाला बनाम हारने वाला,  जीत आपकी जीतने वाला हमेशा समाधान का हिस्सा होता है |हारने वाला हमेशा समस्या का […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*