हिम्मत न हारो

हिम्मत न हारो

जब कोई काम बिगड़ जाए ,

जैसा कि कभी – कभी होगा

जब रास्ता सिर्फ चढ़ाई का ही दिखता हो

जब पैसा कम और कर्ज ज्यादा हो

जब मुस्कराहट की इच्छा आह बने ,

जब चिंताएँ दबा रही हों

तो सुस्ता लो , लेकिन हिम्मत न हरो

भूल – भुलैया है ये जीवन

पगडंडिया जिसको हमें पार करनी है

कई असफल तब लौट गए

पार होते गए जो आगे बढ़ते गए

धीमी है रफ्तार तो क्या

मंजिल को एक दिन पाओगे

सफलता छिपी असफलता में ही

                     जैसे शंका के बादल में आशा की चमक

नाप सकोगे क्या इतनी दूरी

दूर दिखती है लेकिन मुमकिन है यह नजदीक हो

डटे रहो चाहे कितनी भी मुश्किल हो

चाहे हालात जीतने भी बुरे हों , लेकिन हिम्मत न हरो , डटे रहो |

Random Posts

  • Letane Ki Adat

    बीरबल दोपहर को खाना खाने के बाद कुछ देर लेटकर आराम करता था | यह उसकी आदत में शुमार था […]

  • अवचेतन मन की शक्ति

    अवचेतन मन की छिपी हुई शक्ति का प्रयोग करना सीखकर आप अपने जीवन मे अधिक शक्ति ,दौलत ,सेहत, खुशी और […]

  • आशावादी बनिए Be an Optimist

    आशावादी बनिए कोई आदमी आशावादी कैसे बन सकता है ? नीचे लिखी लाइनों में यह बात, बहुत अच्छी तरह बताई […]

  • Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

    Jija Shali Shayari ,Swal Javab-With Image जीजा साली का रिश्ता बहुत ही प्राचीन काल से चलता आ रहा है | […]

One thought on “हिम्मत न हारो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*