Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me || Tute Dilo Ki Shayari

Jakhami Dil Ki Shayri   

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me 

यही दुआ करते हैं सुनाये आपकी जिंदगी में कोई गम न हो |

             हर दिन मिले लाखों खुशियाँ चाहे उसमें शामिल हम न हों ||

हर बार भेजेंगे नववर्ष की शुभकामनाएं |

मेरी याद तो हमेशा तुम्हारे पास रहेगी चाहे साथ मे हम न हों ||

*****

अपनों ने जहर का नाम दे दिया |

प्यार को बेवफाई का नाम दे दिया ||

जो कहते थे कभी हमको भूल न जाना ||

उन्होने दूर जाने का पैगाम दे दिया ||

*****

इश्क की बंदूक बनाई |

दिल के छर्रे भर दिये ||

आँख का घुड़का दबाया |

लाखो घायल कर दिये आपने ||

*****

गिरावट की जिंदगी जिया नहीं करते |

पीछा किसी का हम किया नही करते ||

कंबक्त ये दिल तुम पर कैसे आ गया |

वरना इतनी कीमती चीज किसी को दिया नही करते ||

*****

चाँद से प्यारा चेहरा जिसका |

वो कोई और नहीं वो सिर्फ तुम हो ||

माना है मैंने जिसे खुदा मुहब्बत का |

वो कोई और नहीं वो सिर्फ तुम हो ||

*****

तुम पुछती थी कौन है वो लड़की जो रोज सपनों मे आती है |

वो कोई और नहीं वो सिर्फ तुम हो ||

चाहता था जिसे मैं जान से ज्यादा |

वो कोई और नहीं वो सिर्फ तुम हो ||

वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे |

तुम्हें भूलकर जीऊँ खुदा न करे ||

तेरी मेरी ज़िंदगी वफा न करे |

मर जाएंगे एक दिन खुदा न करे ||

*****

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me

Dil Ki Tamanna

हर सुबह आप मुश्कराती रहें |

हर शाम आप गुन – गुनाती रहें ||

आप जिसे मिले अच्छी तरह मिलें  |

हर मिलने वालों को आपकी याद आती रहें ||

*****

छोड़कर तन्हा मुझे इस तरह कर गया कोई |

जैसे डाली से फूल हो गया जुदा कोई ||

नींद मेरी आंखो से चुरा ले गया कोई |

उम्रभर तड़पाने की दे गया सजा कोई ||

*****

यादों की कीमत वो क्या जानें |

जो खुद ही याद को मिटा दिया करते हैं ||

यादों को मतलब तो उनसे पुछो |

जो यादों के सहारे जिंदगी बिता दिया करते है ||

*****

बादल तो कितने खुशनसीब हैं |

जो  दूर रहकर भी जमी पर बरसते है ||

हम तो कितने बदनसीब है |

पास रहकर भी मिलने को तरसते हैं ||

*****

शायरों की शायरी बड़ी मुश्किल से मिलती हैं |

दिलों को दिल बड़ी मुश्किल से मिलते है ||

यूं तो मिल जाते हैं गुलाबी फूल हमें मगर ,

गुलाबी गालों पर काले तिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं ||

*****

मैं इधर से जा रहा था वो उधर से आ रही थी |

उसके घर वाले रो रहे थे इधर मेरे घर वाले रो रहे थे ||

फर्क बस इतना था उसकी डोली जा रही थी ,

और मेरा जनाजा जा रहा था ||

*****

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me

Khuda Ki Mehrabani

बहारों की महफिल सुहानी रहेगी |

जुवा पर हंसी की कहानी रहेगी ||

चमकते रहेंगे मुहब्बत के तारे |

खुदा की अगर महरवानी रहेगी ||

*****

मुहब्बत के दीपक जलाकर तो देखो |

जरा दिल की दुनिया सजाकर तो देखो ||

हो न जाए मुहब्बत तो कहना |

जरा हमसे नजर मिलाकर तो देखो ||

*****

सुबह उदास होगी |

शाम उदास होगी ||

ए दफनाने वाले |

वहां दफनाना जहां उनकी याद होगी ||

*****

इतनी वेदर्दी से दिल को मेरे वो तोड़ देगी |

ये मालूम न था मुझे अकेला वो छोड़ देगी ||

ए मेरे मासूम दिल तू ही तन्हाइ से प्यार करले |

वेवफा भी अब वफा का साथ छोड़ देगी ||

********

हम वो नही जो तुझे गम मे झोड़ दे |

हम वो नही जो तुमसे नाता तोड़ दें ||

हम तो तेरे वो आशिक हैं जो अगर ,

तेरी सांस बन्द हो तो अपनी सांस छोड़ दें ||

*****

आपकी याद दिल को बेकरार करती है |

नजर तलास आपको बार – बार करती है ||

गीला नहीं कि हम दूर हैं आपसे |

आपकी जुदाई हमें याद करती है ||

*****

हर कली आपसे खुशबू उधार मांगे |

आफ़ताव आपसे नूर उधार मांगे ||

आपसे दोस्ती ऐसी निभाएं कि ,

लोग मुझसे आपकी दोस्ती उधार मांगे ||

*****

जीते हैं तो याद में |

मगर क्या अंजाम होगा ||

उठाकर देख लेना कफन |

होठों पर तेरा ही नाम होगा ||

*****

बेवजह किसी को सताया नहीं करते ||

हद से ज्यादा किसी को सताया नहीं करते ||

जिसकी सांस चलती हो आपसे |

उसे अपनी आवाज के लिए रुलाया नहीं करते ||

*****

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me

हमको भुलाओगे कैसे |

दिल से निकाले पाओगे कैसे ||

हम तो वो खुशबू हैं जो साँसों में बसते हैं |

खुद कि साँसों को रोक पाओगे कैसे ||

*****

चमन को चमन कि बहारों ने लूटा |

साहिल को कस्ती के किनारों ने लूटा ||

वो तो एक कसम से ही डर गए |

हमें तो उनकी कसम देकर हजारों ने लूटा ||

*****

ऐ पलक तू बंद हो जा |

ख्वाबों में उनकी तस्वीर नजर आएगी ||

इंतजार तो सुबह शाम होगा |

रात तो खुशी से कट जाएगी ||

*****

मतलब की दुनिया है |

कौन किसी का होता है ||

धोखा भी वही देता है |

जिस पर भरोसा होता है ||

*****

Pyar Bhari Shari

जिन्दगी पर एतवार किसके है |

मिल जाए खुशी तो इन्कार किसके है ||

जिन्दगी की कुछ मजबूरीया हैं मेरे दोस्त |

वरना जुदाई से प्यार किसके हैं ||

*****

हकीकत है कि मरकर भी हम उनको याद रखेंगे |

ए गुलशन उनकी यादों को सदा आवाद रखेंगे ||

मेरे साथ उनका वादा है मेरी कब्र न खोदे ||

मेरे इस आखरी घर को वो वेबुनियाद रखेंगे ||

*****

कोई नहीं वक्त ही सितमगर निकला |

बेवफा तू नहीं मेरा मुकछर निकला ||

मैं तुझे इल्जाम कैसे दूँ हमसफर मेरे ,

मेरी किस्मत का देवता तू पत्थर निकला ||

*****

फूलों से फिजा आई तो बहारों ने साथ छोड़ दिया |

जिन्दगी जब बफा आई तो यारों ने साथ छोड़ दिया ||

वो समुद्र में रह गयी करते हमारा इंतजार |

क्योकिं जब लहर आई तो किनारों ने साथ छोड़ दिया ||

****

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me
Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me
ये रात इतनी तन्हा कयों होती है |

किस्मत से सबको अपनी शिकायत क्यों होती है ||

अजीब खेल खेलती है किस्मत |

जिसे हम पा नहीं सकते उसी से मुहब्बत क्यों होती है ||

*****

आंसूओ के सहारे जीवन बिता ना सके हम |

जिन्दगी के सहारे जिन्दगी बिता न सके हम ||

प्यार करते थे तुमसे बहुत हम |

मगर ये बात किसी को बता न सके हम ||

*****

क्या कहूँ आरजू क्या है मेरी आरजू सबसे जुदा है मेरी |

मतलवी मुझको समझने की सीधी – साधी अदा है मेरी ||

तेरे कदमों मेरा दम निकले |

ऐ मेरे हमसफर ये दुआ है मेरी ||

*****

बेदर्द  मुहब्बत का सिला है तू |

कैसे कहूं कि एक बेवफा है तू ||

भुलाने पर भी मुझे तेरी याद आती है |

मेरे दिल के गमों की दवा है तू ||

*****

हुआ जो गम तो दर्द किसी और को होगा |

हंसो जो तुम तो खुश और कोई होगा ||

सोचो तो जरा अंजाम के बारे में |

वो अंजाम मेरे सिवा और कौन होगा ||

*****

जान से भी ज्यादा चाहता हूँ आपको |

हर खुशी से भी ज्यादा मांगता हूँ आपको ||

तुम कहो प्यार की हद से भी गुजर जाऊंगा |

उस हद से भी ज्यादा चाहते हैं आपको ||

*****

ना खैरियत ना कोई पैगाम आया है |

जो चाहा नहीं वो अंजाम आया है ||

क्या दोस्ती में भुला दोस्ती मेरी |

ना कोई दुआ न सलाम आया है ||

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me

Jakhami Dil Ki Shayri Hindi Me || Tute Dilo Ki Shayari 

Random Posts

  • अकबर बीरबल के चुटकुले

    एक बार कुछ दरबारियों ने महाराजा अकबर से कहा महाराज ,आजकल बीरबल को ज्योतिष का शौक चढ़ा है |कहता फिरता […]

  • शराब किसे कहते हैं

    शराब किसे कहते हैं शराब  के तीन अक्षर तीन विशेष बातों की शिक्षा देते हैं |   श = शैतान    […]

  • मित्रता कैसे टूटे ?

    मित्रता कैसे टूटे  बादशाह अकबर के पुत्र शहजादा सलीम तथा दिल्ली के एक व्यापारी के पुत्र की आपस मे गहरी […]

  • बादशाह का प्रश्न

    एक दिन बादशाह ने बीरबल से चार चीजों का उत्तर बतलाने को कहा – 1  जो यहाँ हो ,वहाँ नहीं […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*