Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

Jija Shali Shayari ,Swal Javab-With Image

जीजा साली का रिश्ता बहुत ही प्राचीन काल से चलता आ रहा है | जीजा साली का रिश्ता ऐसा है कि इसमे सरारतें , मज़ाक , नोक- झोंक और प्यार भरा हुआ है | वैसे जीजा साली का रिश्ता बहुत ही बढ़िया होता है लेकिन कभी – कभी कुछ लोग इस रिश्ते का गलत प्रयोग करते हैं | मेरे हिसाब से यह रिस्ता सिर्फ हंसी – मज़ाक और jija shali shayari, swal javab तक ही सीमित रहे तो ठीक है वरना गलत कदम उठाने पर बहुत परिवार में दिक्कते आने लगती हैं |

Jija Shali Shayari Swal Javab-With Image Shayari

साली – जीजा जी को मालूम मेरी दीदी का क्या हाल है |  

सिर्फ चिट्ठी ही दोगे या मेरा भी कुछ ख्याल है ||

जीजा – इतनी जल्दी क्या है तेरे पास हमें जाने का  |

           क्या काम है तेरा क्यों पत्र दिया बुलाने का ||

                                 *****

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – दीदी में क्या रखा है ख्याल करो साली का |

           कितना खाना खाओगे हर रोज एक थाली का ||

जीजा – अब भी तुम्हारी दीदी लगती है सोलह साल की |

            अभी तक रस चूसा रहा हूँ उसके गुलाबी गाल की ||

                                                 *****

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – चुटक गया है गाल जरा देखने तुम ध्यान से |

           रह गया है खाली तलवार निकल गया मयान से ||

जीजा – जवानी के जोश में तू दीवानी हो गई है |

            अंदर – अंदर लगता तू सयानी हो गई है ||

                                           *****

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – सोलह साल उमर है मेरी बच्ची न समझना |

           पक गई हूं मैं कच्ची कली न समझना ||

जीजा – भूल से भी अब तुझे बच्ची न समझूंगा |

           जब आओगी दीदी की जगर कच्ची ना समझूंगा ||

                                 *****

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – तो  देर नहीं करना चले आना पहली गाड़ी से |

           इंतजार करूंगी जरूर इसमें कोई शक नहीं ||

जीजा –   आऊँगा    जरूर , इसमें कोई   शक नहीं |

              मेरे सिवा तुमपे  किसी का हक नहीं ||

                                 ******

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – दीदी तो है पत्नी , हमें साली ही कहिएगा |

          चाहकर भी आप हमें घरवाली न कहिएगा ||

जीजा – रख लूँगा तुम्हें भी , दिल में साली मानकर |

           खुश हो जाऊंगा मै दोनों बहन को मानकर ||

Jija Sali Shayari ,Swal Javab -With Image Shayari Part 2

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

साली – जीजा जी हमारी दीदी को तुम रखना अपने साथ में |

           नया सबक सिखाना रोज बैठकर अपने क्लास में |

जीजा – मेरी भोली साली , दीदी तुम्हारी नादान है | 

           तुम्ही आकर सीखा देती तू भी तो जवान है ||

            Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari            

                                      ******

साली – दीदी को न ले जाते तो मैं जाती आपके  साथ में |

           दीदी को जब ले गये मैं क्या करूंगी साथ में ||

जीजा – तुम भी रह सकती हो एक घर खाली है मेरा |

            कोई पूछे तो कह दूंगा ये साली है मेरा ||

                                 ******

साली – मेरी दीदी ऐसी चालाक है तुम्हें परेशान कर देगी |

           तुम प्यार से काम लेना पूरे अरमान कर देगी ||  

जीजा – तुम्हीं से शादी कर लेता तेरी दीदी को छोड़कर |

           तुम्हीं हां कह दो अभी चला आता हूं मैं नाता तोड़कर ||

    Jija Sali Shayari                                  

                             ******

साली – जीजा जी अभी सब करो नई – नई है दुल्हन |

          दो चार मिल जाए हल हो जाएगी सब ऊलझन ||

जीजा  – अगर मैं जानता पहले तुम्हें घरवाली बनाता |

           तुझे बनाता दुल्हन उसे साली बनाता ||

                                    ****** 

साली – अब तो साली बन गई , घरवाली बन सकती नहीं |

  मेरी दीदी को पाकर , आपका मन कभी भरता नहीं ||

जीजा – ससुराल का मजा है साली हो दिलदार |

           बीबी अगर नाराज हो तो साली रहे तैयार ||

Jija Sali Shayari

                                  *****

साली – साली में हक होता है हर जीजा का आधा |

          साली को भी प्यार करो दीदी से भी ज्यादा ||

जीजा – घरवाली बनाता मगर तुम साली बन गई |

            शराब बन गई दीदी तेरी तू प्याली बन गई ||

                                    ***** 

साली – साली हूँ तो क्या घरवाली से कोई कम नहीं |

           मुझमे जितना दम है घरवाली में उतना दम नहीं ||

जीजा – साली तो तुम हो मगर घरवाली बनना छोड़ दो |

           घरवाली बनोगी तुम , तो साली बनना छोड़ दो ||

Jija Sali Shayari

                               ******

साली – साली बना चुके हो घरवाली बनाओगे कैसे |

             एक म्यान में दो तलवार रख पाओगे कैसे ||

जीजा  – एक तलवार घर में रहोगी दूंसरी बाजार में |

             रहेंगी मसती में दोनों अपनी जीजा के प्यार में ||

                                        *****

साली – हमें साली ही रहने दो साली का मजा कुछ और है |

           घरवाली मजा कैसा भी दे साली का मजा कुछ और है ||

जीजा – साली ही जब तक इश्क रचाया जीजा से |

            रह ना सके अकेली तो मौज उड़ाए जीजा से ||

Jija Sali Shayari

                                    *****

साली – साली के फेरे में जीजा ससुराल आता है |

          घरवाली को छोड़कर होली में हर साल आता है ||

जीजा – बुलाती जीजा को करके होली का बहाना |

  लिपट जाती है गले से आँख मिचौली का बहाना ||

                               *****

Jija Sali Shayari ,Swal Javab -With Image Shayari Part 3

Jija Sali Shayari

साली – बुलाने से पहले तुम आने को तैयार रहते हो |

            मिलने के लिए साली से बेकरार रहते हो ||

जीजा – तुम भी तो रहती हो जीजा के आने के इंतजार में |

           जरूर जाऊंगा मैं उसे खाने के इंतजार में ||

                                    *****

साली – जो मिठाई लाओगी उसे कई बार खाई हूं |

            इसलिए तो जीजा तुमसे दिल लगाई हूं 

जीजा – ससुराल दे भगवान सबको सबों का बेड़ा पार हो |

           घरवाली तो ले जाए पर साली भी तैयार हो ||

                          *****

Jija Sali Shayari

साली – जीजा उदास क्यों जब साली जिंदाबाद है |

            दीदी से झगड़ा हुआ था इधर – उधर का याद है ||

जीजा – दीदी से न झगड़ा हुआ न मन मेरा उदास है |

             साली को देखकर दिल को लगी प्यास है ||

                           *****

साली – प्यास लगी तो ठंड पानी पी लो छानकर |

          सुराही से पानी टपक रहा है प्यासे हो तुम जानकर ||

जीजा – टपक रहा टपकने दो पानी सुराही में ज्यादा है |

            जो बचेगा पी लूँगा पिलाना तुम्हारा इरादा है ||

                                   ******

साली – प्यासे हो तुम और पानी है मेरे पास में |

           पिलाने को बैठी हूँ कब से तुम्हारे आस में ||

जीजा – भूखे की पानी से पेट नहीं भरता |

          खाना खाने के लायक हो उसे देर नहीं करता ||

                          ******

Jija Sali Shayari
Jija Sali Shayari

साली – खाना बनाने में देर है पानी पीकर रह जाओ |

           अब भी बनने में देर है पानी पीकर रह जाओ ||

जीजा – जो खाना चाहता हूँ तुम खिला न सकोगी |

            पानी भी तेरे पास है पिला न सकोगी ||

                             *****

साली – सिर्फ पानी पीकर क्या होगा खाने के साथ पीना |

          खाना बनाने के कारण मेरा छूटा है पसीना ||

जीजा – खाना बनाती हो किसके लिए खाएगा कौन आकर |

            साली हो तुम मेरी दूसरा चला जाएगा खाकर ||

                               ******     

साली – तकदीर में होगा तो पहला खाना तुम ही खाओगे |

            कूद के मैदान जीत लो तुम्हीं मजा पाओगे ||

जीजा – साली हो तुम मगर काम करती हो घरवाली का |

            कहाँ से सब सीखी हो बात मतवाली का ||    

                                   *****

Jija Sali Shayari
Jija Sali Shayari

साली – आपने सिखाया और सिखाएगा कौन |

           आपके सिवा सीने से लगाएगा हमको कौन ||

जीजा – सीने से लगाकर रखूँ , पर तुम तो पराई हो |

            क्यों अपने जीजा पर उमर भर की आस लगाई हो ||

                                    *****

साली – दीदी का पीछा छोड़कर साली का इंतजार करो |

          कमसिन है साली आपको उसे भी प्यार करो ||

जीजा – मुझे क्या पता पत्नी से साली मजेदार है |

         घरवाली की तरह साली में जीजा का अधिकारी है ||

                                  *****

साली – जीजा जी साली के बिना ससुराल खाली लगती है |

          जैसे पेड़ पक्षी के बिना हर डाल खाली लगती है ||

जीजा – साली तेरी याद सताती है मुझको |

           सपने में मेरे जैसे कोई बुलाती है मुझको  ||

                                   *****

साली – बुलाती हूं आपको  आप आते क्यों नहीं |

        दीदी की तरह हमें भी सताते क्यों नहीं ||

जीजा – सताने के लिए आऊँगा तुम रहना तैयार |

         जो अरमान दिल में है पूरा कर दूंगा इस बार ||

Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari
Jija Sali Shayari ,Swal Javab-With Image Shayari

     

 

Random Posts

  • Sant Kabir Das Ji Ke Dohe

      Sant Kabir Das Ji Ke Dohe   कस्तूरी कुण्डल बसै , मृग ढूँढे बन महिं |       […]

  • हरे रंग का घोडा

    अकबर बादशाह अपने घोड़े पर सवार होकर बाग की सैर कर रहे थे ,बीरबल भी उनके  साथ था |बाग में […]

  • पुलिस का लव लेटर

    डी .एस पी ।(डब्बू श्यामू और पप्पू )की माँ , सदा खबरदार रहो , तुम्हें घर से मैके ,फरार हुए […]

  • मौसम समाचार मनोरन्जन

    मौसम समाचार मनोरन्जन  मौने अभी -अभी खबर मिली है की                      […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*